उखड़ती सांसों का सहारा बनेगा जसोल माजीसा धाम, 15 ऑक्सीजन कंसट्रेटर मशीनें नाहटा अस्पताल को दी जाएगी

कोरोना महामारी की लड़ाई में छोटी-छोटी पहल बेहद आवश्यक: रावल किशनसिंह जसोल

उखड़ती सांसों का सहारा बनेगा जसोल माजीसा धाम,

विदेश से आयात की 15 ऑक्सीजन कंसट्रेटर मशीनें नाहटा अस्पताल को दी जाएगी


जसोल। इन दिनों उपखण्ड क्षेत्र में एक बार फिर से कोरोना महामारी का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। शासन-प्रशासन की सुविधाएं भी अत्यधिक कम पड़ गई हैं। लोग व्यवस्थाओं से महरूम हैं। मशीनरी व जरुरी संसाधनों के अभाव में लोग कोविड से नहीं लड़ पा रहे। ऐसे में उपखण्ड के नाहटा अस्पताल में लगातार सामने आ रहीं परेशानियों को ध्यान में रखते हुए जसोल धाम स्थित श्री राणी भटियाणी मन्दिर संस्थान एक बार फिर अब आगे आया हैं। मन्दिर संस्थान अध्यक्ष रावल किशनसिंह जसोल ने बताया कि कोरोना के इस दौर में सीमित संसाधनों से जूझ रहे नाहटा चिकित्सालय में संस्थान की और से 15 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन (विदेशी) दी जाएगी। ये सभी मशीनें सप्ताहान्त भारत पहुंच जाएगी। उसके बाद नाहटा अस्पताल को सौंप दी जाएगी। जिससे अस्पताल में आने वाले मरीजों को ऑक्सीजन की कमी के चलते  कंही जाना नही पड़ेगा और ये मशीन अपने आप 01 मिनट में 10 लीटर ऑक्सीजन बनाकर इस्तेमाल में लायेगी। इसमें कोई सलेण्डर की जरूरत नहीं होगी। उन्होंने बताया कि कोरोना काल में बालोतरा उपखण्ड क्षेत्र में जब अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़ गई है और लोगों को बेड नहीं मिल रहा है, ऐसे कठिन दौर में तुरंत स्थायी मशीन द्वारा ऑक्सीजन सेवा उपलब्ध कराकर मरीजों और परिजनों के लिए मन्दिर संस्थान सहारा बनेगा। संस्थान की और से आक्सीजन की कमी से जूझ रहे मरीजों के लिए आक्सीजन का प्रबंध किया जा रहा है। जिससे जल्द आमजन को राहत मिलेगी। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष कोरोना काल मे भी मन्दिर संस्थान की और से मुख्यमंत्री सहायता कोष में 21 लाख की राशि कोरोना मरीजों के सहयोग के लिए दी गई थी। तथा नाहटा अस्पताल को 3 मल्टी पैरामोनिट्रिंग मशीन दी गई थी। साथ ही संस्थान की ओर से 500 राशन किट, सेनेटराईज व मास्क का वितरण किया गया था। पहले दौर में कोविड बचाव हेतु लगभग 40 लाख रूपये खर्च किये गये और अभी इन मशीनों की अनुमानित लागत 11 लाख रूपये होगी।

जिले में एक साथ पहली बार लगेगी 15 मशीनें

जिले के दूसरे बड़े अस्पताल में एक साथ 15 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन जिसमें ऑक्सीजन सलेण्डर की जरूरत नहीं होगी और मशीन स्वत: ऑक्सीजन बनाकर रोगी को पहुंचायेगी तो आमजन को स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। जिले में सम्भवत: ये इस तरह की मशीने एक साथ पहली बार लग रही है। नाहटा अस्पताल में कोरोना से आहत को मिलेगी राहत।


Tags:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

[recent][newsticker]

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Copyright@balotra news track. Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget